ऐसी जमीन में भवन निर्माण से धन, वैभव यश की होती है प्राप्ति

जीवन में रोटी, कपड़ा व मकान की महती आवश्यकता होती है। ऐसे में कोई न कोई घर बनवाता ही रहता है।

लेकिन वास्तु शास्त्र में घर बनाने के लिए कुछ उत्तम स्थान बताए गए हैं। लिहाजा इन स्थानों पर घर बनाकर निवास करने से..

हमेशा यश, वैभव, समृद्धि, धन लाभ, विजय व मान-सम्मान की प्राप्ति होती है। यह स्थान भूतप्रेत अथवा आसुरी शक्तियों से विहीन रहता है।

ऐसे में चलिए जानते हैं वास्तु शास्त्र में कौन की भूमि घर बनाने के लिए सबसे उपयुक्त बताई गई है।

वास्तु शास्त्र के मुताबिक जिस स्थान अथवा भूमि में नेवले निवास करते हैं वहां भवन बनाकर निवास करना अति उत्तम है।

इस स्थान में भवन निर्माण कराकर निवास करने से यश, वैभव, समृद्धि, धन लाभ, विजय व मान-सम्मान की प्राप्ति होती है।

यह स्थान भूतप्रेत अथवा आसुरी शक्तियों से विहीन रहता है। क्योंकि नेवला सूर्य का प्रतीक है। सूर्य एवं राहु के बीच कट्टर दुश्मनी रहती है।

इसी तरह क्षत्रियों के लिए वास्तु शास्त्र में भवन निर्माण के लिए उत्तम जगह बताई गई है।

वास्तु शास्त्र के मुताबिक जिस जमीन में घोड़े रहते हैं। वह वहां चरते, उस जमीन पर उनका अस्तबल हो। ऐसी जमीन सूर्य प्रधान होती है।

क्योंकि घोड़ों को सूर्यवंशी माना गया है। ऐसे में क्षत्रियों के रहने के लिए यह जगह अति उत्तम है।

इसी तरह वास्तु शास्त्र में जिस जमीन में बड़ी संख्या में कौए रहते हो, वह जमीन लक्ष्मी प्रदान करने वाली बताई गई है।

ऐसी जमीन में भवन निर्माण करके निवास करने से पितरों की कृपा से धन सम्पदा की प्राप्ति होती है।

जबकि जहां कौए शाम और रात में रहते हैं वहां गुप्त धन रहता है।

कैसी जमीन में घर का निर्माण कराना अशुभ परिणाम देता है जानने के लिए नीचे क्लिक करके पूरी स्टोरी पढ़ें।