अप्रैल माह से क्रिप्टोकरेंसी ट्रेडिंग में यह 3 बड़ी गलतियां कराएगी तड़गा नुकसान

क्रिप्टोकरेंसी में ट्रेडिंग करते हैं, तो 1 अप्रैल से 30 प्रतिशत टैक्स लगने वाला है यह तो आप जानते ही होंगे।

साथ ही 1 प्रतिशत टीडीएस भी लगेगा। हालांकि टीडीएस जुलाई माह से एप्लीकेबल होगा।

ऐसे में अप्रैल माह से क्रिप्टो ट्रेडिंग में आपको कुछ सावधानियां बरतने की जरूरत है। जिससे आप खुद को बड़े लॉस से बचा सकें।

तो चलिए जानते हैं कि आखिर 1 अप्रैल से क्रिप्टो में ट्रेडिंग करते समय आपको किन-किन चीजों को ध्यान रखना जरूरी है।

1. क्रिप्टोकरेंसियों को बार-बार सेल करने से बचे। क्योंकि अब 1 फीसदी टीडीएस लगने वाला है।

जो कि जुलाई माह से अप्लीकेबल होगा। ऐसे में यदि आप दिनभर में 3 से 4 बार सेल करते हैं तो टीडीएस भी 4 फीसदी कटेगा।

2. क्रिप्टोकरेंसी को बहुत ज्यादा एक वॉलेट से दूसरे वॉलेट में ट्रांसफर करने से बचे। क्योंकि यहां भी आपको 1 फीसदी टीडीएस व 30 प्रतिशत का टैक्स लगने वाला है।

क्योंकि टैक्स रूल की माने तो यदि आपके पास किसी भी तरह का क्रिप्टो आता है तो उसमें भी आपको 1 फीसदी टीडीएस व 30 फीसदी का टैक्स लगेगा।

3. तीसरी सबसे बड़ी बात यह है कि जब भी आप किसी क्रिप्टो में निवेश करें उसे लॉग टर्म के लिए करें। इससे आप टैक्स से बचेंगे।

क्योंकि टैक्स आपको प्रॉफिट पर लगेगा। ऐसे में जब तक आप कॉइन को होल्ड करके रखेंगे तब तक आपको टैक्स नहीं लगने वाला है।

बता दें कि साल 2022-23 का वित्तीय वर्ष 1 अप्रैल से शुरू हो चुका है। ऐसे में क्रिप्टोकरेंसी में 30 फीसदी का टैक्स लागू हो जाएगा।

टीडीएस जुलाई माह से लागू होगा। ऐसे में बार-बार सेल व बाई करने से अब हमें बचना होगा।

क्योंकि मान लीजिए यदि आप महीनेभर में 30 बार भी ट्रेडिंग कर लेते हैं तो आपको सीधे 30 फीसदी टीडीएस देना होगा।

ऐसे में जो मुनाफा होगा वह आपका टीडीएस में चला जाएगा। इसलिए जरूरी है कि लॉग टर्म निवेश करें।