Nag Panchami 2022 पूजा विधि शुभ मुर्हूत

हिन्दू पंचांगों अनुसार सावन मास के शुक्ल पक्ष पंचमी तिथि को नाग पंचमी का पर्व मनाया जाता है।

इस दिन नाग देवता की पूजा की जाती है। उन्हें दूध पिलाया जाता है।

मान्यता है कि नागपंचमी पर विधि-पूर्वक नाग देवता की पूजा-अर्चना करने से काल सर्प दोष से मुक्ति मिलती है।

सावन मास की पंचमी तिथि 2 अगस्त को सुबह 5.13 बजे से शुरू होगी। जो 3 अगस्त को 5.41 बजे समाप्त होगी।

नागपंचमी पूजन का शुभ मुर्हूत 2 अगस्त को सुबह 5.43 बजे से 8.25 बजे तक है।

यानी कि नाग देवता पूजन का शुभ मर्हुत 2 घंटे 42 मिनट है।