लुटेरी दुल्हन को पकड़ने पुलिस ने आरक्षक को बना दुल्हा फेंका ऐसा जाल की दौड़े चले आए दलाल

लुटेरी दुल्हन को पकड़ने पुलिस ने आरक्षक को बना दुल्हा फेंका ऐसा जाल की दौड़े चले आए दलाल

खंडवा जिले के छैगांवमाखन थाना क्षेत्र से बीते दिनों एक लुटेरी दुल्हन का मामला सामने आया था। उक्त दुल्हन शादी के चार दिन में ही एक लाख रूपए, सोने की पांचली लेकर फरार हो गई थी। मामले को गंभीरता से लेते हुए पुलिस ने लुटेरी दुल्हन गैंग के दो दलालो को पकड़ लिया है। यह दलाल लोगों को जिस तरह से फंसाते थे, वैसे ही टीआई राधेश्याम मालवीय ने उन्हें अपने जाल में फंसा। रिपोर्ट की माने तो टीआई ने पुलिस जवान को दुल्हा बताकर उसकी शादी के लिए एक तस्वीर दलालों के पास भेजी। पुलिस के द्वारा चली गई चाल से दो दलाल गिरफ्त में आ गए हैं।

लुटेरी दुल्हन को पकड़ने पुलिस ने आरक्षक को बना दुल्हा फेंका ऐसा जाल की दौड़े चले आए दलाल

क्या था मामला

यह पूरा मामला लुटेरी दुल्हन से जुड़ा हुआ है। जो शादी के चार दिन बाद ही बीमार मां का हलावा देकर पति को घर से लेकर निकली। बीच रास्ते में टॉयलेट जाने की बात कहकर झाड़ियों में घुसी जहां से वह रफू चक्कर हो गई।
दरअसल गत दिनों बहादुर सिंह राजपूत पुत्र अंतरसिंह राजपूत के विवाह के लिए बडिय़ाग्यासुर निवासी दुलीचंद से संपर्क किया था। दुलीचंद ने महाराष्ट्र परतवाड़ा निवासी विलासराव से बात कराई थी। जिसके बाद अंतरसिंह को एक युवती का फोटो दिखाया गया था। युवती पसंद आने पर शादी के खर्च के नाम पर दुल्हे के पिता से एक लाख नकद और सोने की पांचाली ली थी। 12 फरवरी को पूजा और अंतर की शादी कराई गई। 4 दिन बाद ही पूजा ने मां की बीमारी का बहाना बनाकर महाराष्ट्र जाते समय चमाटी फाटे के पास कार से उतरकर फरार हो गई। मामले में 25 मार्च को छैगांवमाखन पुलिस ने चार लोगों पर केस दर्ज कर जांच शुरू की थी।

ऐसे टीआई ने दलालों को पकड़ा

टीआइ राधेश्याम मालवीय ने मामले की जांच करते हुए खंडवा के दलालों का मोबाइल नंबर पता किया। नम्बर मिलते ही टीआई ने टीआई ने अपने भाई की शादी के लिए लड़की ढूंढने की बात की। दलाल ने लड़के की फोटो मांगी तो टीआई ने थाने के जवान मनोज मुजाल्दे का फोटो वॉटसअप पर भेज दिया। दूसरी तरफ से दलाल ने तीन लड़कियों का फोटो वाट्सएप किया। जिसमें से एक को पसंद आना बताकर आगे बात शुरू की। एक लाख रुपए शादी खर्च के नाम पर दलाल ने दुल्हे को मिलने बुलाया। खंडवा के एक स्थान पर मिलना तय हुआ और जैसे ही दलाल दुलीचंद पिता लक्ष्मणसिंह और विलासराव पिता कैलाशराव आया, दुल्हा बने मनोज और अन्य पुलिसकर्मियों ने उसे दबोच लिया।

दुल्हन की तलाश में मुम्बई पहुंची पुलिस टीम

पुलिस ने दोनों दलालों को हिरासत में लेकर जब कड़ी पूछताछ की तो आरोपियों के पास से ठगे गए एक लाख रुपए में से 40 हजार रुपए बरामद भी कर लिए गए। पूछताछ में लुटेरी दुल्हन का लोकेशन महाराष्ट्र के मुंबई में मिलने पर एक दल मुंबई रवाना किया गया। टीआई राधेश्याम मालवीय ने बताया कि दलालों को पकडऩे में एएसआइ नंदराम वासुरे, प्रआ संजय पाल, आरक्षक मनोज मुजाल्दे, महिला आरक्षक सरीता की अहम भूमिका रही। तो वहीं टीआई का कहना है कि मामले एक और आरोपी कैलाशराव भी है। जिसकी सरगर्मी से तलाश की जा रही है।

Also Read- मां की तबियत खराब होने का हवाला देकर शादी के चौथे दिन भागी दुल्हन- MP News

Also Read- पंचायत सचिव के घर EOW का छापा, कई गाड़ियां, लाखों के आभूषण सहित करोड़ों की सम्पत्ति उजागर- Satna News

Leave a Reply

Your email address will not be published.