Sunday, September 17, 2023
Homekam ki baatChanakya Niti : पुरुषों से 8 गुना ज्यादा होती है महिलाओं में...

Chanakya Niti : पुरुषों से 8 गुना ज्यादा होती है महिलाओं में ये काम करने की इच्छाएं , नहीं कर पाती खुद पर भी कंट्रोल

Chanakya Niti : पुरुषों से 8 गुना ज्यादा होती है महिलाओं में ये काम करने की इच्छाएं , नहीं कर पाती खुद पर भी कंट्रोल आचार्य चाणक्य (Chanakya) एक महान विद्वान, नीतिशास्त्री, कूटनीतिज्ञ, शिक्षक, रणनीतिकार और अर्थशास्त्री थे. आचार्य चाणक्य ने अपनी नीति के बल पर चंद्रगुप्त मौर्य जैसे साधारण बालक को मगध का सम्राट बना दिया था.

Chanakya Niti : पुरुषों से 8 गुना ज्यादा होती है महिलाओं में ये काम करने की इच्छाएं , नहीं कर पाती खुद पर भी कंट्रोल

आचार्य चाणक्य ने कई किताबों की रचना की, जिसमें से चाणक्य नीति (Chanakya Niti) बेहद खास है. चाणक्य नीति में जीवन और व्यक्ति से जुड़े होने वाले रिश्तों जैसे- माता-पिता, मित्र, पत्नी और भाई आदि कैसे होने चाहिए, इसके बारे में भी बताया गया है.

यह भी पढ़े : – Desi jugaad : भारत के ये देसी जुगाड़ देख भौचक्के रह जाओगे आप , देखे अनोखे देसी जुगाड़

कहा जाता है कि अगर कोई व्यक्ति चाणक्य नीति की बातें फॉलो करता है तो निश्चित रूप से उसको सफलता मिलती है.

चाणक्य नीति में आचार्य चाणक्य ने ये भी बताया है कि ऐसी कौन सी इच्छाएं हैं जो स्त्रियों में पुरुषों की तुलना में कई गुना ज्यादा होती हैं.

Chanakya Niti : पुरुषों से 8 गुना ज्यादा होती है महिलाओं में ये काम करने की इच्छाएं , नहीं कर पाती खुद पर भी कंट्रोल

चाणक्य नीति का श्लोक: स्त्रीणां द्विगुण आहारो लज्जा चापि चतुर्गुणा। साहसं षड्गुणं चैव कामश्चाष्टगुणः स्मृतः॥

अर्थात : चाणक्य नीति के इस श्लोक में आचार्य चाणक्य ने बताया है कि स्त्रियों में भूख पुरुषों की तुलना में दोगुनी होती है.

इसके अलावा महिलाओं में लज्जा यानी शर्म पुरुषों के मुकाबले 4 गुना होती है.

इसके अलावा स्त्रियों में साहस पुरुषों की तुलना में 6 गुना होता है और काम की भावना पुरुषों के मुकाबले 8 गुना ज्यादा होती है.

आचार्य चाणक्य ने बताया कि हालांकि स्त्रियों में सहनशक्ति और लज्जा की भावना भी पुरुषों से ज्यादा होती है तभी वो अपनी इस इच्छा के बारे में नहीं बताती हैं.

यह भी पढ़े : – भेल पूरी को बनाते वक्त पैरो से रौंदते हुए वीडियो हुआ वायरल, ये वीडियो देखने के बाद नहीं होगा कभी भेल खाने का मन , देखे वायरल वीडियो

मूर्खिष्योपदेशेण हानिकारकभारनेन च।
दुखितैः संप्रयोगेन पंडितोऽप्यवंसिदति।

इस श्लोक में आचार्य चाणक्य बताते हैं कि यदि शिष्य मूर्ख है तो उसे उपदेश देना व्यर्थ है, यदि स्त्री दुष्ट है तो उसका पालन-पोषण करना व्यर्थ है। यदि आपका पैसा खो जाता है या आप किसी दुखी के तालमेल में हैं  तो आप कितने भी बुद्धिमान क्यों न हों, आपको नुकसान होगा।  इसलिए इनसे दूर रहना चाहिए । 

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

Most Popular

Recent Comments

Join our Whatsapp Group