Aadhaar Card धारक को मोदी सरकार दे रही 5 लाख का लोन! तो क्या अब वाकई हर कोई बनेगा लखपति!

Aadhaar Card धारक को मोदी सरकार दे रही 5 लाख का लोन! तो क्या अब वाकई हर कोई बनेगा लखपति!

Aadhaar Card : साइबर अपराध करने वाले लोग नित रोज नए-नए हथकण्डे अख्तियार करके लोगों को ठगने का काम करते है। जिनसे बचने की जरूरत है और अपनी निजी जानकारी को कभी इनसे साझा न करें।

डिजिटल युग में कई बार ऐसी खबरें सामने आती है जिस पर भोली-भांली जनता आंख मूंदकर विश्वास कर लेती हैं। सोशल मीडिया में इन दिनों आधार कार्ड को लेकर कुछ ऐसे ही भ्रामक खबरें लोन को लेकर फैली हुई है। जहां यह दावा किया जा रहा है कि अब आधार कार्ड (Aadhaar Card) धारक को मोदी सरकार फ्री में 5 लाख तक लोन देगी। ऐसे में जब इस वायरल खबर की सच्चाई जानने की कोशिश की गई तो पता चला कि यह पूरी तरह से फेक हैं। देश मोदी सरकार ऐसी किसी भी तरह की योजनाएं संचालित नहीं करती है और न ही आधार कार्ड पर किसी प्रकार के लोन देने का वादा करती है।

इस बात की पुष्टि पीआइबी फैक्ट चेक ने भी एक ट्वीट करके की है। पीआईबी फैक्ट ने अपने ट्वीट में साफ किया है कि इन दिनों सोशल मीडिया में एक खबर तेजी से वायरल हो रही है कि देश की मोदी सरकार आधार कार्ड होल्डर्स को 4 लाख 78 हजार का लोन दे रही है। जो पूरी तरह से फेक है। ऐसी कोई भी योजना नहीं है। इसे सोशल मीडिया में फारवर्ड न करें।

अलर्ट रहने की जरूरत

बता दें कि साइबर अपराध डिजिटल में युग में तेजी से फल-फूल रहा है। जहां साइबर क्राइम करने वाले जनता को चूना लगाने के लिए नित रोज नए-नए हथकण्डे अपनाते हैं। जिनकी मदद से वह आम लोगों की निजी जानकारी इकट्ठा कर लेते है और फिर रूपयों की ठगी जैसी घटना को अंजाम देते है। ऐसे में सभी को अलर्ट रहने की जरूरत है और अपनी निजी जानकारी कभी किसी से सार्वजनिक बिल्कुल भी न करें। वैसे भी आधार कार्ड (Aadhaar Card) आज सबसे जरूरी दस्तावेज में से एक हैं। जिसकी जरूरत हर सरकारी व गैर सरकारी कामों में पड़ती हैं। किसी भी प्रकार के दावों पर विश्वास करने से पहले अपने स्तर पर जांच-परख अवश्य करें।

Also Read- Business Idea : साल के 12 महीने चलने वाला यह बिजनेस महीने के कराएंगा 5 लाख कमाई, जाने स्टेप बाई स्टेप पूरी जानकारी

Also Read- KBC 14 : 50 लाख के सवाल पर अटक गए गुजरात के विमल, क्या आप जानते हैं इस सवाल का जवाब!

Leave a Reply

Your email address will not be published.