Maharashtra : मुंबई से गुजरातियों और राजस्थानियों को निकाल दो तो यहां नहीं बचेगा पैसा, राज्यपाल के बयान से मचा घमासान

Maharashtra : मुंबई से गुजरातियों और राजस्थानियों को निकाल दो तो यहां नहीं बचेगा पैसा, राज्यपाल के बयान से मचा घमासान

Maharashtra Politics : कार्यक्रम के दौरान उन्होंने कहा था, कि ‘कभी-कभी मैं यहां के लोगों से कहता हूं कि महाराष्ट्र से, विशेषकर मुंबई और ठाणे से गुजरातियों और राजस्थानियों को निकाल दो तो तुम्हारे यहां कोई पैसा बचेगा ही नहीं। ये आर्थिक राजधानी कहलाएगी ही नहीं।

Maharashtra: शुक्रवार को मुंबई के एक कार्यक्रम में महाराष्ट्र के राज्यपाल भगत सिंह कोश्यारी ने महाराष्ट्र को लेकर एक टिप्पणी की जिसके बाद से वो विवादों के घेरे में आ गए हैं। उन्होंने कार्यक्रम के दौरान कहा था, ‘कभी-कभी मैं यहां के लोगों से कहता हूं कि महाराष्ट्र से, विशेषकर मुंबई और ठाणे से गुजरातियों और राजस्थानियों को निकाल दो तो तुम्हारे यहां कोई पैसा बचेगा ही नहीं। ये आर्थिक राजधानी कहलाएगी ही नहीं। उनके इस बयान को लेकर महाराष्ट्र के सत्ता में पक्ष और विपक्ष दोनों ने नराजगी जताई, संजय राउत ने इस पर प्रतिक्रिया करते हुए शिंदे गुट पर निशाना साधा और कहा कि कोश्यारी ने मराठियों को भिखारी बता दिया है उनके इस बयान पर मुख्यमंत्री शिंदे को एक्शन लेना चाहिए।

वंही शिंदे गुट ने इस बयान पर प्रतिक्रिया देते हुए कहा कि राज्यपाल का ऐसा बयान महाराष्ट्र के लिए अपमानजनक है। शिंदे गुट के प्रवक्ता ने दीपक केसरकर ने कहा कि राज्यपाल के इस बयान पर केंद्र सरकार में इसकी शिकायत दर्ज कराएंगे, मुंबई के निर्माण में हर समुदाय की हिस्सेदारी है। यह बयान बताता है कि राज्यपाल को मुंबई के बारे में बहुत कम जानकारी है।

महाराष्ट्र का अपमान बर्दाश्त नहीं : उद्धव ठाकरे

महाराष्ट्र के पूर्व मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने अपने एक प्रेस कॉन्फ्रेंस में कहा कि मैं राज्यपाल पद का अपमान नहीं करना चाहता हूं, लेकिन जो उस कुर्सी पर बैठता है उसे भी उसका मान रखना चाहिए। महाराष्ट्र में रहकर इस तरह मराठी लोगों का अपमान कर रहे हैं। राज्यपाल के पद पर बैठे व्यक्ति के ऊपर करवाई होनी चाहिए, ऐसी हमारी मांग है।

विवादों के घेरे में आए कोश्यारी ने दी सफाई

कोश्यारी ने कहा कि मुंबई महाराष्ट्र की शान है। यह देश की आर्थिक राजधानी भी है। राजस्थानी समाज के कार्यक्रम में मैंने जो बयान दिया, उसमें मेरा मराठी आदमी को कम करके आंकने का कोई इरादा नहीं था। मैंने केवल गुजराती और राजस्थानी मंडलों की ओर से व्यापार में किए गए योगदान पर बात की।

Also Read- Karnataka KCET Result 2022 : कर्नाटक कॉमन एंट्रेंस टेस्ट का परिणाम हुआ जारी, यहां करें चेक

Also Read- क्या प्रेग्नेंट है Vidya Balan! विडियो पोस्ट देखकर फैंस लगा रहे कयास

Leave a Reply

Your email address will not be published.