Kishore Kumar : लाखो कमाने के बाद भी नहीं चुका पाये कैंटीन वाले का उधार

Kishore Kumar : लाखो कमाने के बाद भी नहीं चुका पाये कैंटीन वाले का उधार

Kishore Kumar : मशहूर सिंगर और एक्टर किशोर कुमार की जयंती के मौके पर (4 अगस्त) को खंडवा जिले में गौरव दिवस मनाया जा रहा हैं। किशोर कुमार (Kishore Kumar) का जन्म 4 अगस्त 1929 को मध्यप्रदेश के खंडवा जिले में हुआ था। उनकी शिक्षा खंडवा जिले में ही पूरी हुई और कॉलेज की पढ़ाई इंदौर से पूरी की थी। किशोर कुमार का घर आज तक खंडवा में मौजूद हैं, और वहीं उनकी याद में उनके फैंस और प्रसंस्को ने किशोर की समाधि भी बनाई है। आज भी उनके प्रसंस्क उनसे जुड़ी यादें ताजा करने वहां जाते हैं और किशोर की पसंदीदा दूध जलेबी का प्रसाद चढ़ाते हैं।

किशोर कुमार (Kishore Kumar) ने अपनी कॉलेज की पढ़ाई एक क्रिस्टेन कॉलेज से ग्रेजुएशन की हैं। और वहीं वे एक इमली के पेड़ के नीचे बैठकर अपने गाने का रियाज किया करते थे। किशोर कुमार हॉस्टल में रहा करते थे और वह अक्सर गर्ल्स हॉस्टल के तरफ देखकर फिल्म पड़ोसन का गाना मेरे सामने वाली खिड़की में एक चांद का टुकड़ा रहता हैं … गुनगुनाया करते थे। जब यह गाना फिल्म में चलाया गया तो दर्शकों को यह बहुत पसन्द आया। किशोर को अपने कॉलेज के कैंटीन के पोहा और जलेबी बहुत पसन्द थे।

किशोर कुमार (Kishore Kumar) के कॉलेज के कैंटीन से जुड़ा एक किस्सा आज भी बहुत याद किया जाता हैं। कहा जाता हैं की पांच रुपए बारह आना वाला गाना उन्होंने कैंटीन में ही बनाया था। और जहां वह कैंटीन में जलेबी और पोहा खाते थे वहां के काका का 5 रुपए 12 आने का उधार था। जब भी काका पैसे मांगा करते थे तो किशोर दा गाने के अंदाज में उन्हें जवाब दिया करते थे।

कुछ समय बाद इन्होंने इस गाने को फ़िल्मों में डाल लिया। कहा जाता है की किशोर कुमार (Kishore Kumar) किसी पर अपना एक पैसा नहीं छोड़ते थे मगर उन्होंने लाखो रुपए कमाने के बाद भी कैंटीन वाले के पैसे नहीं दिए।

किशोर दा (Kishore Kumar) को अपनी जन्मभूमि खंडवा से बहुत ज्यादा लगाव था। वह अपने अंत समय में खंडवा में ही बसना चाहते थे , लेकिन उनकी यह इच्छा इच्छा ही रह गईं जब वह मरे तो उनका अंतिम संस्कार उनके गांव में ही किया गया था।

Also Read- KBC की हॉट सीट पर बैठ अमिताभ बच्चन के सवालों का जवाब देती नजर आई सिंगरौली डिप्टी कलेक्टर Sampada Saraf

Also Read- Rewa News : उप सरपंच बनी महिला के पति को सचिव ने दिलाई शपथ, सीईओ ने किया निलंबित

Leave a Reply

Your email address will not be published.