Jivitputrika Vrat 2022 : जीवित्पुत्रिका व्रत के दरम्यान भूल से भी महिलाएं न करें यह गलती वरना व्रत का नहीं मिलेगा पुण्य लाभ

Jivitputrika Vrat 2022 : जीवित्पुत्रिका व्रत के दरम्यान भूल से भी महिलाएं न करें यह गलती वरना व्रत का नहीं मिलेगा पुण्य लाभ

Jivitputrika Vrat 2022: During Jivitputrika Vrat, women should not do this mistake even by mistake, otherwise the fast will not get the meritorious benefits.

Jivitputrika Vrat 2022 : जीवित्पुत्रिका व्रत पर्व आज यानी कि 18 दिसम्बर 2022 को मनाया जा रहा है। महिलाएं आज इस व्रत को रखेगी। जीवित्पुत्रिका व्रत संतान की दीर्घायु के लिए रखा जाता है। यह व्रत हर साल अश्वनी मास की कृष्ण पक्ष की अष्ठमी तिथि को रखा जाता है। जितिया व्रत बेहद कठिन होता है। क्योंकि यह निर्जला रखा जाता है। यह व्रत पूर्ण रूप से संतानों के लिए समर्पित हैं। जिन्हें माताएं रखती हैं।

Jivitputrika Vrat 2022 : जीवित्पुत्रिका व्रत के दरम्यान भूल से भी महिलाएं न करें यह गलती वरना व्रत का नहीं मिलेगा पुण्य लाभ

Jivitputrika Vrat 2022 : मान्यता है कि इस व्रत को रखने से संतानों की हर बाधाएं दूर होती हैं। जीवित्पुत्रिका व्रत को कई नामों से जाना जाता है। यह व्रत ज्यादातर देश के उत्तर प्रदेश, बिहार, झारखण्ड, नेपाल एरिया में रखा जाता है। जीवित्पुत्रिका व्रत को करने से पूर्व कई सावधानियां बरतने की जरूरत होती है। वैसे अक्सर यह देखा जाता है कि व्रत के दौरान कई बार हम छोटी-मोटी गलतियां कर जाते हैं। इन्हीं गलतियों से आज हम आपको अवगत कराने वाले हैं। ताकि आप इनसे बच सके और आपको व्रत का पूरा-पूरा पुण्य लाभ मिल सके। तो जीवित्पुत्रिका व्रत (Jivitputrika Vrat 2022) रखने के दरम्यान महिलाओं को क्या-क्या गलतियां नहीं करनी चाहिए चलिए जानते हैं।

Jivitputrika Vrat 2022 : जीवित्पुत्रिका व्रत के दरम्यान भूल से भी महिलाएं न करें यह गलती वरना व्रत का नहीं मिलेगा पुण्य लाभ

Jivitputrika Vrat 2022 : जीवित्पुत्रिका व्रत में भूल से न करें यह गलती

Jivitputrika Vrat 2022 : व्रती महिलाएं कोई भी व्रत हो, उसे पूरे उत्साह के साथ रखती है, लेकिन कई बार अनजाने में उनसे कुछ गलतियां हो जाती हैं। जिसे ध्यान देने की जरूरत है। ऐसे में चलिए जानते हैं व्रत के दौरान हमें किन-किन बातों का ध्यान रखने की जरूरत है।

  1. यदि कोई महिला किसी गंभीर स्वास्थ्य समस्या से पीड़ित है,वह व्रत से दूर ही रहे तो उनके लिए अति उत्तम होगा। क्योंकि स्वास्थ्य से बड़ा कुछ भी नहीं है।
  2. जो महिलाएं इस व्रत को रखती है उन्हें एक दिन पूर्व यानी कि नहाय, खान के दिन तामसिक भोजन नहीं करना चाहिए। जिसमें प्याज, लहसुन सहित अन्य चीजें शामिल है।
  3. व्रत के दौरान महिलाओं को काम की ओर बिल्कुल भी ध्यान नहीं देना चाहिए। क्योंकि यह व्रत निर्जला होता है। ऐसे में यदि काम करेगी तो प्यास आदि लग सकती है।
  4. व्रत के दौरान अक्सर देखा जाता है कि महिलाएं आपस में बैठकर गप्पे हाकती हैं। लेकिन ध्यान रखे की वार्तालाप के दौरान किसी की बुराई न करें। यदि आप व्रत के दरम्यान किसी की बुराई करती हैं तो व्रत से आपको पूर्ण पुण्य लाभ नहीं मिलता है।
  5. तीन दिवसीय इस व्रत में सम्पूर्ण ब्रम्हचर्य का पालन करना चाहिए। व्रत वाले दिन मन को शांत रखें, किसी का अपमान न करें। घर में क्लेश आदि करने से बचें।
  6. जानकारों की माने तो पूजा के समय महिलाओं को लाल अथवा पीले रंग का ही वस्त्र अथवा साड़ी पहननी चाहिए। भूल से भी हर, नीला आदि कलर का वस्त्र धारण नहीं करना चाहिए।

Also Read- मात्र 831 रूपए में मिल रहा 25000 कीमत वाला Redmi Note 11 Pro +5G फोन, जाने ऑफर

Also Read- Shardiya Navratri 2022 : धन प्राप्ति के लिए करें यह उपाय, कभी नहीं होगी पैसो की कमी, पर्स हमेशा रूपयों से रहेगा भरा

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *