Thursday, May 19, 2022

hindinews11

HomeLIFE STYLEHome Making Vastu Tips : इस स्थान पर गृह निर्माण माना जाता...

Home Making Vastu Tips : इस स्थान पर गृह निर्माण माना जाता है बेहद शुभ, सदैव होती है यश, वैभव, धन, सम्मान व विजय की प्राप्ति

Home Making Vastu Tips : हर व्यक्ति को जीवन में तीन चीजों की महती आवश्यकता होती है। जिसमें रोटी कपड़ा व मकान शामिल हैं। मकान नहीं होगा तो व्यक्ति रहेगा कहां। ऐसे में जब व्यक्ति मकान का निर्माण कराता है तो उसके मन में यही ख्याल रहता है। जहां भी वह मकान का निर्माण कराएं, वहां वह सुखी जीवन व्यतीत कर सके। ऐसे में लोग मकान निर्माण के समय वास्तु शास्त्र की मदद लेते हैं।

Home Making Vastu Tips : इस स्थान पर गृह निर्माण माना जाता है बेहद शुभ, सदैव होती है यश, वैभव, धन, सम्मान व विजय की प्राप्ति

वास्तु शास्त्र की मदद से वह जानना चाहते हैं कि जहां वह मकान निर्माण करा रहे हैं वह जमीन अच्छी हैं या नहीं। ऐसे में वास्तु शास्त्र में मकान निर्माण के लिए कुछ उत्तम स्थान बताए गए है। वास्तु शास्त्र के मुताबिक यदि व्यक्ति इस तरह की जमीन में यदि भवन का निर्माण कराता है तो उसे जीवनभर यश, वैभव धन व सम्मान की प्राप्ति होती है। ऐसे में चलिए जानते हैं कि किस स्थान पर भवन निर्माण को बेहद शुभ बताया गया है।

भवन निर्माण के लिए यह स्थान है उत्तम

वास्तु शास्त्र के अनुसार जिस जमीन में नेवले रहते हैं। वह जमीन भवन निर्माण के लिए अति उत्तम होती है। नेलवा के निवास स्थान में भवन निर्माण कराने से वहां रहने वालों को हमेशा यश, वैभव, समृद्धि, धन लाभ, विजय व मान-सम्मान की प्राप्ति होती है। यह स्थान भूतप्रेत अथवा आसुरी शक्तियों से विहीन रहता है। क्योंकि नेवला सूर्य का प्रतीक है। सूर्य एवं राहु के बीच कट्टर दुश्मनी रहती है। ऐसे में नेवले के निवास स्थान में भवन बनाकर रहने से जीवन सुखमय रहता है।

क्षत्रियों के निवास के लिए उत्तम जगह

वास्तु शास्त्र की माने तो जिस जमीन में घोड़े रहते हैं। वह वहां चरते, उस जमीन पर उनका अस्तबल हो। ऐसी जमीन सूर्य प्रधान होती है। क्योंकि घोड़ों को सूर्यवंशी माना गया है। ऐसे में क्षत्रियों के रहने के लिए यह जगह अति उत्तम है। ऐसी जमीन में भवन निर्माण कर निवास करने से आरोग्य सम्पदा की प्राप्ति होती है। साथ ही हृदय संबंधी रोगों से मुक्ति मिलती है।

गौशाला में भवन निर्माण

वास्तु शास्त्र की माने तो जहां गौशाला हो वह जमीन भूमि निर्माण के लिए अति उत्तम है। क्योंकि रक्तवर्ण वाली गाय सूर्य का प्रतीक है। जबकि श्वेत वर्ण वाली गाय बृहस्पति की। लेकिन गाय के चारागाह में भवन निर्माण करके निवास करना महापाप माना गया है। मान्यता है कि जो व्यक्ति ऐसा करता है उसे जीवनभर दुखों का सामना करना पड़ता है। मृत्यु के पश्चात उसे नर्क में जाना पड़ता है।

लक्ष्मी देने वाली होती है यह जमीन

वास्तु शास्त्र की माने तो जिस जमीन में बड़ी संख्या में कौए रहते हो, वह जमीन लक्ष्मी प्रदान करने वाली होती है। ऐसी जमीन में भवन निर्माण करके निवास करने से पितरों की कृपा से धन सम्पदा की प्राप्ति होती है। जबकि जहां कौए शाम और रात में रहते हैं वहां गुप्त धन रहता है।

इस जमीन में न करें भवन निर्माण

वास्तु शास्त्र की माने तो जिस जमीन पर तेंदुआ, बाघ व सिंह जैसे हिंसक जानवर निवास करते हो ऐसी जमीन भवन निर्माण के लिए उपयुक्त नहीं है। ऐसी भूमि मंगल व केतु की प्रतीक होती है।

Also Read- घर के बाहर इस पौधे को लगाते ही बनने लगते है बिगड़े काम, पैसों से भर जाता है घर का भण्डार

Also Read- अमीर बनने की इच्छा को पूरा करता है यह चत्मकारिक पौधा, पौधे के विकास के साथ ही बढ़ता है धन!

RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular