जिंदगी से थक-हार कर कभी सड़क किनारे आमलेट-मैगी बेचने लगे थे एक्टर Sanjay Mishra, जाने अभिनेता के संघर्ष की कहानी

जिंदगी से थक-हार कर कभी सड़क किनारे आमलेट-मैगी बेचने लगे थे एक्टर Sanjay Mishra, जाने अभिनेता के संघर्ष की कहानी

संजय मिश्रा (Sanjay Mishra) बॉलीवुड के बेहतरीन कलाकारों में से एक है। वह अब तक अपने करियर में 100 से ज्यादा फिल्में कर चुके हैं। अभिनेता के अभिनय को खूब पसंद किया जाता है। खासकर उनकी कॉमेडी तो लोगों के सिर चढ़कर बोलती है। बेहतरीन अदाकारी के लिए अभिनेता को अब तक कई अवार्ड से नवाजा जा चुका हैं। लेकिन क्या आप जानते हैं कि दुनियाभर में जबदस्त फैंस फालोइंग रखने वाले अभिनेता संजय मिश्रा (Sanjay Mishra) का कभी जीवन से मोह भंग हो गया था। वह बॉलीवुड की चकाचौंधभरी दुनिया को छोड़ सड़क किनारे स्थित एक ढाबे में काम करने लगे थे। इस बात का खुलासा खुद अभिनेता संजय (Sanjay Mishra) ने एक इंटरव्यू के दौरान किया था। संघर्ष के दिनों को याद करते हुए संजय मिश्रा ने बताया कि एक समय उनका जिंदगी से मोह पूरी तरह से भंग हो गया था।

जिंदगी से थक-हार कर कभी सड़क किनारे आमलेट-मैगी बेचने लगे थे एक्टर Sanjay Mishra, जाने अभिनेता के संघर्ष की कहानी

अभिनेता उन दिनों को याद करते हुए बताते हैं कि एक समय मुझे पेट की गंभीर बीमारी हो गई थी। जिससे मैं परेशान रहता था। इसी दौरान मेरे पिता की मौत हो गई थी। मैं पिताजी के काफी करीब था। उनकी मौत ने मुझे पूरी तरह से तोड़कर रख दिया। पिता जी का पूरा संस्कार करने के बाद मैं एक दिन मां से बोलकर घर से निकल पड़ा। मैं मुम्बइ नहीं लौटना चाह रहा था।

अभिनेता संजय मिश्रा (Sanjay Mishra) बताते हैं कि मौत को करीब से देखने के बाद मुझे एहसास हुआ कि जब यही जिंदगी है तो क्यों न उपर वाले की बनाई दुनिया को अच्छे से देखा जाएं। एक्टर कहते हैं कि उन दिनों मैं पहाड़ों की ओर देखता था। मेरे मन में यही ख्याल आता था कि इन पहाड़ों में एकांत दुनिया में कही जाकर बस जाउं। लेकिन पेट के खातिर ऐसा न हो सका।

जिंदगी से थक-हार कर कभी सड़क किनारे आमलेट-मैगी बेचने लगे थे एक्टर Sanjay Mishra, जाने अभिनेता के संघर्ष की कहानी

रिपोर्ट की माने तो इस दौरान संजय मिश्रा (Sanjay Mishra) ने सड़क किनारे स्थित गंगोत्री गार्डेन में एक बूढ़े व्यक्ति के ढाबे में काम करने लगा। जहां आमलेट व मैगी आदि बिक्री की जाती थी। इस ढाबे में काम के दौरान अभिनेता को लोग पहचानने लगे थे। इसी दरम्यान फिल्म निर्देशक ने उन्हें ऑल द बेस्ट के लिए कॉल किया। जिस पर संजय (Sanjay Mishra) मुम्बई लौटे और इस फिल्म में बेहतरीन अभिनय किया।

जिंदगी से थक-हार कर कभी सड़क किनारे आमलेट-मैगी बेचने लगे थे एक्टर Sanjay Mishra, जाने अभिनेता के संघर्ष की कहानी

रोहित की यह फिल्म संजय के करियर के लिए टर्निंग प्वॉइंट साबित हुई। इसके बाद अभिनेता पीछे मुड़कर नहीं देखा। संजय अब बॉलीवुड के ऐसे अभिनेता है जो कई फिल्मों में लीड रोल भी प्ले कर सकते हैं। अभिनेता की बेहतरीन कॉमेडी के दुनियाभर में लोग दीवाने हैं।

Also Read- विधवा औरत का यह मॉडल करता था बिस्तर गर्म, Lockup show पर खोला राज तो यूं मिली प्रतिक्रिया

Video : Akshay Kumar को नहीं पता खुद की फेवरेट एक्ट्रेस के नाम की स्पेलिंग, यकीन न हो तो खुद देख लीजिए कैसे बदलते…

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *