Sunday, June 26, 2022

hindinews11

HomeUncategorized800 रूपए की रिश्वत लेते थाने का मुंशी लोकायुक्त के हाथों ट्रेप

800 रूपए की रिश्वत लेते थाने का मुंशी लोकायुक्त के हाथों ट्रेप

 रीवा। जिले रायुपर कर्चुलियान थाना अंतर्गत शनिवार के दिन लोकायुक्त टीम ने रायपुर कर्चुलियान थाना में पदस्थ प्रधान आरक्षक बुद्धसेन सूर्यवंशी 51 वर्ष निवासी शिवराजपुर थाना नईगढ़ी को 8 सौ रुपये रिश्वत लेते हुए धर दबोचा। मजे की बात तो यह है कि उक्त प्रधान आरक्षक ने उस व्यक्ति से रिश्वत की मांग की जो शराब ठेकेदार के इसारे पर पुलिस का ही डसा हुआ था। 
800 रूपए की रिश्वत लेते थाने का मुंशी लोकायुक्त के हाथों ट्रेप

चिल्ला रहा था सलाखों के पीछे

बस्ती के गलियारों से मिली जानकारी के अनुसार घटना 21 जून के रात की है। मो. तौहीद पुत्र मो. जहीर 30 वर्ष निवासी रायपुर कर्चुलियान रायपुर कर्चुलियान थाना में बने सलाखों के पीछे खड़ा चिल्ला रहा था। थाना प्रभारी से रहम की भीख मांग रहा था। कहता रहा दरोगा जी पैसे में इतना भी अंधा न हो ऊपर भगवान सब देख रहा है। ठेकेदार के कहने पर फर्जी मामले में मत फंसाओ। ईश्वर की लाठी बेआवाज होती है, लेकिन थाना प्रभारी ठेकेदार के रुपयों के आगे अंधे हो चुके थाना प्रभारी को उस निरीह की आवाज नहीं सुनाई दी। बताया गया कि 22 जून की सुबह देशी शराब दुकान से 6 पेटी शराब लाकर उस पर 54 लीटर शराब की जब्ती बना दी। पुलिस की मार से घायल नाग फर्जी मामले में जेल चला गया। पुलिस यह सपने में भी नहीं सोची थी कि जेल में बंद घायल  नाग उसे डस लेगा।

चालान पेश करने मांगा था रिश्वत

लोकायुक्त के टीम प्रभारी विद्यावारिद तिवारी ने बताया कि प्रधान आरक्षक द्वारा पैसे मांगे जाने की शिकायत रायपुर कर्चुलियान निवासी मो. तौफीक पुत्र मो. जहीर ने की थी। शिकायतकर्ता ने बताया कि उसका बड़ा  भाई मो. तौहीद केंद्रीय जेल में बंद हैं। पुलिस ने उस पर 54 लीटर शराब की जब्ती का प्रकरण बनाया है। जिसका न्यायालय में चालान करने मुंशी बुद्धसेन सूर्यवंशी 15 सौ रुपये की मांग कर रहा। मामला 8 सौ रुपये में तय हुआ। शनिवार 22 जून को थाना क्षेत्र के काकू दरबार ढ़ाबा में पैसे की डील हो रही थी। उसी समय लोकायुक्त की टीम ने मुंशी को घूंस लेते हुए धर दबोचा। लोकायुक्त टीम ने घूंसखोर मुंशी के विरुद्ध भ्रष्टाचार अधिनियम के तहत अपराध पंजीबद्ध कर लिया।

रिकाडिंग में आया थाना प्रभारी का नाम

बताया गया कि जब लोकायुक्त आरोपित मुंशी को घेरने चक्रव्यूह रच रही थी। तब उसकी आवाज को रिकॉड किया गया। रिकॉड के दौरान मुंशी ने शिकायतकर्ता को बताया कि थाना प्रभारी ने आरोपी मो. तौहीद और सलीम खान पर ठेकेदार के दबाव में आकर फर्जी मामला दर्ज किया है। बताया गया कि वह रिकार्ड एसपी लोकायुक्त तक पहुंच गया है। इस संबंध में जानकारी लेने जब एसपी लोकायुक्त को रात 8.22 बजे फोन लगाया तो उनका मोबाइल स्विच ऑफ था। लेकिन लोकायुक्त कार्यालय में की गई चर्चा के अनुसार बताया गया कि वाइस रिकाडिंग के आधार पर थाना प्रभारी रायपुर कर्चुलियान पर भी गाज गिर सकती है। 
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular