TICKER

6/recent/TICKER-posts

Header Ads Widget

The Girl On The Train Movie Review : मिस्ट्री एवं थ्रिलर फिल्म है परिणीति चोपड़ा की नई मूवी, दर्शकों को अंत रखती है बांधे

The Girl On The Train : मूवी 26 फरवरी को नेटफिलक्स पर रिलीज हुई। फिल्म में प्रमुख रूप से परिणीति चोपड़ा (Parineeti Chopra) , आदिति राव हैदरी (Aditi Rao Haidari), कीर्ति कुल्हारी (Kirti Kulhari) एवं अविनाश तिवारी (Avinash Tiwari) लीड रोल में हैं।

The Girl On The Train Movie Review : मिस्ट्री एवं थ्रिलर फिल्म है परिणीति चोपड़ा की नई मूवी, दर्शकों को अंत रखती है बांधे

 फिल्म बेहद ही रोमांचक हैं। जो एक मर्डर मिस्ट्री पर आधारित हैं। फिल्म की कहानी पूरी तरह से दर्शकों को अंत तक बांधे रखती हैं। सभी स्टारों ने बेहतरीन अभिनय का प्रदर्शन किया हैं। तो वहीं निर्देशक ने रिभु दास गुप्ता ने सटीक निर्देशन किया हैं। 

क्या है कहानी

फिल्म The Girl On The Train की कहानी परिणीति चोपड़ा से शुरू होती हैं। जो पेशे से एक वकील हैं। जबकि उनके पति के रोल में अविनाश तिवारी हैं। यह कपल एक सुमखय जीवन व्यतीत कर रहा होता हैं। इस दौरान परिणीति प्रेग्नेंट होती हैं। तभी एक दुर्घटना होती हैं। जिसमें परिणीति बुरी तरह से घायल हो जाती है और इस दुर्घटना में उनके बच्चे की मृत्यु हो हो जाती है। साथ ही परिणीति भी अमेंशिया की बीमारी से पीड़ित हो जाती हैं। जो कि एक भूलने की बीमारी होती है। 

तो वहीं दूसरी तरफ अदिति राव हैदरी हैं। जिसे परिणीति अक्सर ट्रेन में सफर करते हुए देखती हैं और उन्हें वह बेहद ही खुश मिजाज लड़की समझती हैं। एक दिन अदिति की हत्या हो जाती हैं। जिसका इल्जाम परिणीति पर आ जाता है। खुद को बेगुनाह साबित करने के लिए परिणीति भूलने की बीमारी के दौरान सबूत इकट्ठा करने में जुट जाती हैं और अपने आप को इस इल्जाम से बचाने की पूरी कोशिश करती हैं। 

The Girl On The Train फिल्म की लम्बाई 1 घंटा 52 मिनट की हैं। जिसमें डायलाॅग नहीं बल्कि कलाकारों का अभिनय है। परिणीति की यह पहली थ्रिलर फिल्म है। जिसमें वह काफी इंटेंस रोल में नजर आ रही हैं। फिल्म में वह अल्कोहल से ग्रस्त अमेंशिया बीमारी की जर्नी बेहद ही शानदार दिखाइ गई है। फिल्म में कीर्ति कुल्हारी एक सिख काॅप की भूमिका में है। जो उनका लो मेकअप उनके अभिनय को बेहद ही शानदार बना रहा है। 

यह फिल्म थ्रिलर होने के साथ ही अपनी एज पर रखती है। निर्देशक रिभु दासगुप्ता ने बेहद सटीक डायरेक्शन किया है। फिल्म का स्क्रनप्ले एवं एडिटिंग इतनी शानदार है कि अंत तक कातिल कौन है इसका पता लगाना दर्शकों के लिए बेहद मुश्किल हैं। लिहाजा इसी उलझन में दर्शकों को फिल्म की कहानी अंत तक बांधे रखती हैं। फिल्म गानें कुछ खास नहीं हैं। लेकिन एक गाना है जो इमोशनल कर देता हैं और इसी गाने के सहारे स्टोरी आगे बढ़ती है। 


बताते चले कि परिणीति स्टारर फिल्म The Girl On The Train साल 2016 में रिलीज हुई हाॅलीवुड फिल्म द गर्ल आॅन द ट्रेन का हिन्दी एडेप्टेशन हैं। मिस्ट्री एवं थ्रिलर जैसी फिल्मों के शौकीन दर्शकों के लिए यह बेहद ही शानदार फिल्म हैं। क्योंकि फिल्म को इस तरह से बनाया गया है जो दर्शकों को अंत तक रोके रहने में कामयाब रहती हैं। 

Also Read- पांच सालों के स्ट्रगल को यादकर रोई नोरा फतेही, कहा- उन लड़कियों को सोचकर...


एक टिप्पणी भेजें

0 टिप्पणियाँ