TICKER

6/recent/TICKER-posts

Header Ads Widget

happy b'day Ompuri : इंग्लिश में बेहद कमजोर थे ओमपुरी, फिर ऐसे बनाई पकड़, किया 20 अंग्रेजी फिल्मों में काम, गरीबी से था बुरा हाल तो होटलों में धोए थे बर्तन

 happy b'day Ompuri : ओमपुरी साहब एक ऐसा नाम है जिन्होंने फिल्मों में हर तरह के किरदार निभाए। फिर चाहे एक पुलिस इंस्पेक्टर का हो या फिर खलनायकी। नेता हो या गुण्डा, काॅमेडी हो या भ्रष्ट अफसर। ओमपुरी साहब ने हर तरह के किरदार बेहद ही शानदार तरीके से जिया।


 दमदार अवाज के धनी ओमपुरी साहब का जन्म 18 अक्टूबर 1950 के अंबाला में हुआ था। आज उनका 70वां जन्मदिन हैं। ओमपुरी साहब आज भले ही इस दुनिया में नहीं है। लेकिन वह एक अभिनेता के रूप में आज भी लोगों के दिलों में राज करते हैं। अभिनेता ओमपुरी साहब का बचपन बेहद ही गरीबी में बीता। एक इंटरव्यू के दौरान उन्होंने खुद बताया था कि 6 वर्ष की उम्र में उन्हें पेट पालने के लिए होटलों में बर्तन साफ करने पड़े थे।


 बेहद गरीबी होने के बाद भी उन्होंने कभी हार नहीं मानी और संघर्ष करते हुए आगे बढ़े। ओमपुरी साहब बचपन से ही कला के क्षेत्र में जाना चाहते थे। लिहाजा उन्होंने अपनी शुरूआती शिक्षा-दीक्षा पंजाब में ही पूरी कर कला के क्षेत्र में जाने का निर्णय लिया। उन्होंने नेशनल स्कूल आॅफ ड्रामा में दाखिला लिया। लेकिन उनकी इग्लिश काफी वीक थी। जिसके कारण उन्हें कई बार शर्मिनंदी का सामना करना पड़ता था।

 इग्लिश कमजोर होने के चलते वह काफी खुद से नाराज रहते थे। लेकिन फिर उन्होंने इसे सीखने की बात मन ही मन ठान ली। उन्होंने इग्लिश सीखना शुरू किया। इसमें उनकी मदद उनकेे मेंटर ने की। इसके अलावा नसरूद्दीन शाह ने भी उनकी इग्लिश को इम्प्रूव करने में काफी मदद की थी। धीरे-धीरे ओमपुरी साहब ने इग्लिश में ऐसी पकड़ बनाई कि उन्होंने 20 अंग्रेजी फिल्में तक की। 


इस फिल्म से किया था डेब्यु

ओमपुरी साहब ने कला शिक्षा लेने के बाद एफटीआईआई से ट्रेनिंग ली। उन्होंने बतौर अभिनेता डेब्यु मराठी फिल्म से किया था। फिल्म का नाम था ‘घासीराम कोतवाल। इसके बाद ओमपुरी साहब ने हिन्दी, तमिल, कन्नड एवं इंग्लिश भाषा में कई शानदार फिल्में की है। उनके अभिनय की दुनिया दीवानी हैं। 

उन्होंने सबसे ज्यादा बाॅलीवुड में फिल्में की हैं। एक दौर था जब फिल्मों में रोल पाने के लिए कलाकार को सुन्दर होना सबसे ज्यादा जरूरी था। हालांकि यह बात आज भी फिल्मों में लागू होती है। लेकिन ओमपुरी साहब ने इस बातों को दरकिनार बाॅलीवुड में वह मुकाम हासिल किया जिसके लिए कई लोग सपने देखते हैं।