6 जुलाई से शुरू हो रहा सावन माह, जानिए पूजा विधि व भोलेबाबा को प्रसन्न करने उपाय

sawan somwar 2020 : इस वर्ष सावन महीने की शुरूआत 6 जुलाई से हो रही हैं। सावन के महीने में भक्त भोलेबाबा को प्रसन्न करने के लिए विधि-विधान से पूजा-अर्चना करते हैं। सावन का महीना विशेषकर शिव आराधना का होता हैं। सावन के महीनों में शिव मंदिरों में लम्बी-लम्बी लाइनें लगती हैं। 
6 जुलाई से शुरू हो रहा सावन माह, जानिए पूजा विधि व भोलेबाबा को प्रसन्न करने उपाय

लेकिन इस बार कोविड-19 महामारी के चलते भगवान शिव की पूजा-पाठ करने के लिए भक्तों को थोड़ी समस्या आ सकती हैं। सावन महीने की शुरूआत गुरू पूर्णिमा यानी कि सोमवार के दिन हो रही हैं। सावन का अंत भी सोमवार के दिन से हो रहा है। इस सावन 5 सोमवार पड़ेंगे। 

कब-कब है सोमवार

जानकारों की माने तो इस सावन 5 सोमवार पड़ने वाले हैं। पहला सोमवार 6 जुलाई को पड़ेगा। जबकि दूसरा सोमवार 13 जुलाई को, इसी तरह तीसरा सोमवार 20 जुलाई व चैथा सोमवार 27 जुलाई को होगा। जबकि सावन महीने का आखिरी सोमवार 3 अगस्त को पड़ेगा। इसी दिन रक्षाबंधन का त्यौहार भी पड़ रहा है।
6 जुलाई से शुरू हो रहा सावन माह, जानिए पूजा विधि व भोलेबाबा को प्रसन्न करने उपाय

ऐसे करें भोलेबाबा को प्रसन्न

भगवान भोलेबाबा बहुत ही दयालू हैं। जो भक्त सच्चे मन से उनकी आराधना करता है वह उन पर प्रसन्न होकर मनचाहा वर देते हैं। सावन का महीना भगवान शिव को प्रसन्न करने के लिए सबसे अच्छा माना गया हैं। भगवान शिव की विधि-विधान से पूजा-पाठ करने के लिए भक्त सुबह जल्दी उठकर स्नान आदि करें। इसके बाद उनका जल एवं दूध से अभिषेक करें। 

साथ ही माता पार्वती एवं नंदी बाबा की भी दूध, जल एवं गंगाजल से स्नान कराएं। पंचामृत से अभिषेक कर बेल पत्र चढ़ावे। भगवान शिव को धतूरा, भांग, चावल, चंदन अर्पित करें। घी-शक्कर से भगवान शिव को भोग चढ़ावें। धूप, दीप से भोलेबाबा की आरती करें। अंत में शिव बाबा की आरती करें और फिर प्रसाद का वितरण करें। 
6 जुलाई से शुरू हो रहा सावन माह, जानिए पूजा विधि व भोलेबाबा को प्रसन्न करने उपाय

इन चीजों से होते है भोलेबाबा नाराज

जानकारों की माने तो भगवान भोलेबाबा को केतकी का फूल, तुलसी, नारियल का पानी नहीं चढ़ाना चाहिए। इससे भगवान शिव नाराज हो जाते हैं। भगवान भोलेनाथ जलाभिषेक कांस्य एवं पीतल के पात्र से ही करना चाहिए। 

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां