मौसम ने बदली करवट, जोरदार बारिश के साथ ही कई जगह गिरे ओले

मौसम ने एक बार फिर से अपना रूख बदला। शुक्रवार को सुबह से ही भगवान सूर्य देख ओझल रहे। शाम होते-होते तेज हवाओं के साथ जोरदार बारिश हुई। बारिश का यह क्रम रात तकरीबन 9 बजे तक जारी रहा। पहले तो तेज हवा के साथ झमाझम बारिश हुई। बारिश का यह क्रम देर रात तक रिमझिम रिमझिम जारी रहा। 
मौसम ने बदली करवट, जोरदार बारिश के साथ ही कई जगह गिरे ओले

दिनभर शुक्रवार को सूरज की लुकाछिपी और हवा के बाद शाम को महाकोशल के कटनी, बुंदेलखंड के पन्ना में बारिश के साथ ओले गिरे। वहीं विंध्य के सतना, रीवा में भी ओले गिरे। तेज हवा और बारिश के कारण बिजली भी गुल हो गई। आेलावृष्टि और बिजली गुल होने से जनजीवन पर खासा असर पड़ा है।

कटनी जिले में शाम को बूंदाबांदी के बाद गिरे ओले

कटनी जिले में शाम साढ़े पांच बजे से हल्की बूंदा-बांदी शुरू हो गई। शहर के आसपास के इलाकों में बारिश के साथ ओले गिरने लगे। इसके अलावा कटनी के पड़ख़ुरी, जोबा, जोबिकला, मझगवा, कछगवां, रजवारा, डिठवारा, हरदुआ, पूंछी गांवों में खासी संख्या में ओले गिरे।

किसान गेहूं की फसल खराब होने से चिंतित

खेती के जानकारों का कहना है कि क्षेत्र में कुछ दिन में गेहूं की फसल पकने को है। ऐसे में ओलों से गेहूं की बाली गिरने की आशंका किसानों को सता रही है।

चना, गेहूं व सरसों की फसलों को नुकसान की आशंका

सतना के उचेहरा, कोठी समेत अन्य तहसीलों में बारिश के साथ ओले भी गिरे। कृषि विशेषज्ञों से मिली जानकारी के अनुसार ओले गिरने से चना, गेहूं और सरसों की फसलों को नुकसान की आशंका है। मौसम के बार-बार बदलने से किसान चिंतित हो उठे हैं। वहीं बारिश से मौसम में ठंडक घुल गई। इससे लोगों को ठंड का एक बार फ‍िर अहसास होने लगा।

मौसम केंद्र का कहना है कि अभी मौसम का मिजाज उतारचढ़ाव से भरा ही रहेगा। जहां गर्मी दिन में सताएगी वहीं ठंड और हल्‍की बूंदाबांदी का दौर भी चल सकता है।

टिप्पणी पोस्ट करें

0 टिप्पणियां