Breaking News

मायूस चेहरों पर एसपी ने लौटाई खुशियां, ऑपरेशन रिंगटोन का गौरव ने बढ़ाया मान

 रीवा। मोबाइल जिंगदी का एक हिस्सा बन गया है। पल भर के लिए मोबाइल दूर हो जाने पर इंसान व्याकुल हो जाता है। मोबाइल गुमने या चोरो हो जाने का गम उतना नहीं होता जितना सारे संपर्क नबंर टूटने और फेसबुक आईडी, जी-मेल आदि हैक होने का भय होता है। मोबाइल के स्टोर में कई यादें तस्वीर के रुप में होती हैं। वो यादें खोने के साथ ही तस्वीरों में छेड़छाड़ किये जाने का भी डर हो जाता है। आश्चर्य की बात तो ये है मोबाइल गुमने या चोरी होने पर कई लोग तो सदमे में आ जाते है कि उनके जेहन में एक ही सवाल उठता है-अब क्या होगा?  ऐसे में रीवा पुलिस उस जनता के लिए खड़ी है, जो अपना मोबाइल गुमा दिये या चोरी हो गई। ऐसे मुरझाये चेहरों पर खुशी लाने के लिए रीवा पुलिस ने ऑपरेशन रिंगटोन चलाया। जिसका जिम्मा सायबर सेल को देने के साथ ही उसका प्रभारी उप निरीक्षक गौरव मिश्रा को बनाया। 
मायूस चेहरों पर एसपी ने लौटाई खुशियां, ऑपरेशन रिंगटोन का गौरव ने बढ़ाया मान

उनके द्वारा अब तक सौ से ऊपर मोबाइल तलास कर पीडि़त लोगों को लौटाई  गई। ऑपरेशन रिंगटोन को ख्याति देने जिले के प्रभारी द्वारा कार्याक्रम आयोजित किया जाता है। जिसमें पीडि़त लोगों को मोबाइल वापस की जाती है। जिसका मुख्य उद्देश्य मोबाइल गुमने या चोरी होने पर अनिवार्य रुप से पुलिस के पास जाकर शिकायत दर्ज कराना है। ताकि उनके सिम का दुर्पयोग भी न हो और मोबाइल धारक किसी अनहोनी का शिकार न हो पाये। बीते छ माह में चोरी एंव गुमे हुए मोबाइलों में से सायबर सेल प्रभारी गौरव मिश्रा ने अपनी टीम के साथ मिलकर लगभग 37 मोबाइले बरामद की। जिनकी कीमत लगभग पांच लाख रुपये आंकी गई। मजे की बात तो यह है कि रविवार के दिन पुलिस कंट्रोल रुम में जिस वक्त एसपी आबिद खान ऑपरेशन रिंगटोन के तहत पीडि़त लोगों को अपने हाथों मोबाइल वापस कर रहे थे, उस दौरान कई लोगों ने कहा कि साहब हम तो मोबाइल की उम्मीद ही छोड़ दिये थे। कई लोगों के तो मोबाइल पाने की खुशी में आंखे भर गई। हो भी क्यों न जो कीमती मोबाइल रखने का शौक था और अचानक गुम जाने से घर वालों की डांट भी पड़ी थी।  पीडि़त लोगों ने एसपी आबिद खान सहित सायबर सेल प्रभारी गौरव मिश्रा, आरक्षक मानेंद्र शर्मा, हफीजउर्रहमान, सुभाष चंद, प्रीतम मार्को एवं अभिषेक पांडेय का आभार प्रकट किया।


इनको लौटाई गई मोबाइल

पुलिस कंट्रोल रुम में एसपी आबिद खान ने रागिनी कछवाहा, निधि मिश्रा, श्वेतांगी शुक्ला, तृप्ती पांडेय, सुप्रिया सिंह, आरती वर्मा, रसीद बेगम, असीमा साकेत, मोनिका द्विवेदी, डीपी सिंह, शैलेंद्र प्रताप सिंह, योगेंद्र सिंह, राजीव साकेत, अभिषेक मालवीय, ओमप्रकाश राठौर, प्रिंस शुक्ला, अनूप साकेत, संतोष विश्वकर्मा, एमए कुरैशी, निकेत अग्निहोत्री, रामलखन साकेत, अविनीश तिवारी, राजकुमार, धीरज सिंह, करण आहूजा, संदीप पटेल, अशोक कुमार, मो. रमजान, विनोद कुमार पटेल, नागेंद्र प्रताप सिंह, लोकेश सिंह, रोहित सोनी, धर्मेद्र, पुष्पराज सिंह, अजय नामदेव सहित विशाल चतुर्वेदी को मोबाइल वापस की।

No comments