Breaking News

मेडिकल कॉलेज छात्र संग मारपीट, कार्रवाई की मांग को लेकर धरने में बैठे

रीवा। श्यामशाह मेडिकल कॉलेज में अध्ययनरत यूजी छात्रों के बीच चली आ रही दुश्मनी मारपीट में तब्दील हो गई। विवाद का कारण रैगिंग के बीच आपसी वर्चस्व बताया जा रहा है। छात्र के साथ हुई मारपीट में एक गुट के लोग दूसरे गुट पर कार्रवाही करने की मांग को लेकर मेडिकल कॉलेज में धरने पर बैठ गये। मिली जानकारी के अनुसार 2018 बैच के यूजी छात्र प्रांशू सिंह और 2016-17 बैच के छात्र विकास सिंह और क्षितिज गुप्ता के बीच रैगिंग को लेकर हुआ विवाद वर्चस्व की बात बन गई थी। 

मेडिकल कॉलेज छात्र संग मारपीट, कार्रवाई की मांग को लेकर धरने में बैठे
दोनो ही गुट कब आमने-सामने हो जाये इस बात का कोई अंदाजा नहीं था। आश्चर्य की बात तो यह है कि इस बात की जानकारी मेडिकल कॉलेज के सभी प्रोफेसरों को थी। लेकिन किसी भी डॉक्टर ने दोनो की बीच बढ़ रहे तनाव को खत्म करने का प्रयास नहीं किया। जिसका परिणाम 9 जुलाई की शाम सामने निकल कर आया। छात्र प्रांशू सिंह चौहान के पिता तेजभान सिंह ने बताया कि घटना की शाम उनका पुत्र अपने साथी भरतराम, अमित धाकड़, हार्षित कराड़े, धर्मपाल सिंह, शंशाक पांडेय, विकास सिसोदिया के साथ पीटीएस चौराहा चाय पीने गए थे। उसी समय 2018 बैच के छात्रों ने हमला कर दिया। जिसमें अब्दुल अहद फिरोजी, पृथ्वी सिंह, किरोन डी शिरा और सूजस आदि लोगों ने मिल कर मारपीट की। जिसे घायल अवस्था में एसजीएमएच में उपचार के लिए भर्ती किया गया। पीडि़त छात्र के पिता ने मेडिकल कॉलेज के अधिष्ठाता से आरोपित छात्रों के विरुद्ध कार्रवाही किये जाने की मांग की।

No comments