Breaking News

पैसों के विवाद में किसान से मारपीट, व्यापारी के साथ दिन-दहाड़े हुई लूट

रीवा।  जिले में दो अलग-अलग घटनाएं सामने आई है। पहली घटना में जहां पुराने विवाद को लोग लोगों ने एक व्यक्ति से मारपीट की है तो वहीं दूसरी घटना में लुटेरों द्वारा दिन-दहाड़े लूट की घटना को अंजाम दिया गया है। पहली घटना कोतवाली क्षेत्र के गांव रीठी में आदिवासियों के समूह ने गांव के ही सवर्ण समुदाय के किसान पर हमला कर दिया। जिसे गंभीर हालत में उपचार के लिए संजय गांधी अस्पताल में भर्ती किया गया। बताया गया कि दोनों के बीच पैसे के लेनदेन का विवाद चल रहा था। 
पैसों के विवाद में किसान से मारपीट, व्यापारी के साथ दिन-दहाड़े हुई लूट

कोतवाली पुलिस ने बताया कि रीठी निवासी कमलनाथ पांडेय पुत्र राकेश पांडेय 26 वर्ष के साथ मारपीट की गई। मारपीट को अंजाम गांव के ही आदिवासी समाज से भाऊ कोल पुत्र विश्राम कोल, अज्जू कोल पुत्र छोटेलाल कोल, छोटे कोल  पुत्र विश्राम कोल सहित आधा दर्जन लोगों ने दिया। पीडि़त ने बताया कि वह किसानी का काम करता है। गुरुवार को वह रीवा मंडी से गल्ला बेच कर अपने गांव जा रहा था। रात जब वह रीठी स्टैंड पहुंचा तो घात लगाकर बैठे आदिवासियों ने उस पर लाठी, डंडे से हमला कर दिया। पीडि़त ने बताया कि आरोपी छोटू कोल को वह पिछले वर्ष अपनी खेती बटाई में दिया था। खेती करने के लिए 4 हजार रुपये नगद एंव उसकी लड़की की शादी में 5 हजार रुपये मदद स्वरुप कर्ज दिया था। इस वर्ष खेत छोटे कोल को न देकर दूसरे को दे दिया और दिया गया कर्ज 9 हजार रुपये उससे मांगा तो वह रंजिस रखने लगा। 

मनगवां में दिन दहाड़े व्यापारी से हुई लूट

मनगवां बस्ती अपराधियों का गढ़ बन गया। तस्करी, चोरी और लूट आम हो चुका है। तस्करों के सेवा भाव से पुलिस ने भी नत मस्तक हो चुकी। गांव-गांव शराब की अवैध बिक्री, कोरेक्स, गांजा का व्यापार पुलिस की सह पर फल-फूल रहा है, ऐसा कहा जाये तो कोई गलत न होगा। नशा अपराध का जड़ है, एक ओर आईजी, एसपी थाना प्रभारियों को निर्देश दे रखे हैं इस संबंध में लोगों के बीच जा कर जागरुक करें। वहीं दूसरी ओर चंद सेवा भाव के लालच में जिले के कुछ थाना प्रभारी अपने क्षेत्र में जम कर नशे का अवैध कारोबार करने की छूट दे रखे हैं। जिसका परिणाम यह है कि आये दिन चोरी, लूट और गुंडागर्दी की वारदात हो रही। शुक्रवार को मनगवां बस्ती में व्यापारी के साथ दिन दहाड़े लूट हो गई। आश्चर्य की बात तो यह है कि पुलिस ने लूट की एफआईआर भी दर्ज नहीं की। बताया गया कि मनगवां बस्ती निवासी रामप्रसाद गुप्ता पुत्र गणेश गुप्ता गांव-गांव जाकर किसानों का गल्ला खरीदी का काम करता है। शुक्रवार को वह गांव किसानों का गल्ला खरीदने जा रहा था। उसी समय रास्ते में दो युवकों ने व्यापारी के साथ मारपीट कर उससे 12800 रुपये नगद छीन लिये। चर्चा है कि पीडि़त व्यापारी ने लूट के एक आरोपी शिवप्रसाद की शिनाख्त कर ली है। साथ ही बताया गया कि लूट को अंजाम देने वाले दोनो ही आरोपी नशे में थे। 

No comments