Breaking News

रेप के आरोपी ने ट्रेन के सामने कूदकर दी जान, परिजनों ने एसपी कार्यालय में शव रखकर किया हंगामा

रीवा। बुधवार को एसपी कार्यालय में नईगढ़ी के फुलहा गांव निवासी युवक का शव रख कर स्थानीय नेता पुलिस पर दबाव बना कर अपने समाज में छवि बनाने प्रयास करते रहे। नईगढ़ी थाना प्रभारी पर हत्या का मामला दर्ज कर गिरफ्तारी और बर्खास्तगी की मांग पर अड़े रहे।
रेप के आरोपी ने ट्रेन के सामने कूदकर दी जान, परिजनों ने एसपी कार्यालय में शव रखकर किया हंगामा

 पांच घंटे चले ड्रामा के बाद जब हकीकत सामने आई तो नेता भी कायल हुये। पुलिस ने उनके सामने युवक द्वारा लिखा गया सुसाईड नोट ही रख दिया।  लेकिन इस बीच शव की दुर्दशा करने में कोई गुरेज नहीं किये। दुष्कर्म के आरोप में फरार आरोपी ने कटनी जिले के मुड़वारा रेलवे ट्रैक में ट्रेन से कट कर आत्महत्या कर ली थी और आत्महत्या करने के पहले एक सुसाईड नोट लिखा था। जिसमें गांव के कुछ लोगों द्वारा कूटरचित कर उसे दुष्कर्म के आरोप में फंसाये जाने का आरोप लगाया है। साथ ही यह भी संदेश दिया कि ऐसे लोगों के विरुद्ध कानूनी कार्रवाही करनी चाहिये, जो किसी को भी झूठे गंभीर आरोप में फंसाते हैं। 

किशोरी के साथ बलात्कार का था आरोप

मृतक प्रदीप कुमार गुप्ता पुत्र रामसांचे निवासी ग्राम फुलहा के विरुद्ध नईगढ़ी थाना में 14 वर्षीय गांव की किशोरी के साथ रेप किये जाने का आरोप था। किशोरी की शिकायत पर नईगढ़ी पुलिस ने रोजनामचे के अपराध क्रमांक 158/19 में आरोपी के विरुद्ध धारा 354, 376 एंव पास्कोएक्ट के तहत 30 मई 2019 को अपराध दर्ज किया था। शिकायत में किशोरी ने बताया कि 29 मई की रात वह शौच के लिए घर के बाहर निकली थी। उसी दौरान आरोपी ने उसे गलत नीयत से पकड़ लिया। शोर मचाये जाने पर आरोपी छोड़ कर भाग गया। शुरुआती बयान में पुलिस ने छेड़छाड़ के साथ पास्कोएक्ट के तहत आरोपी के विरुद्ध मामला दर्ज किया। लेकिन दूसरे दिन जब 154 के तहत न्यायालय में कलम बंद बयान हुआ तो किशोरी ने अपने साथ दुष्कर्म करने का भी आरोप लगाया। जिस पर पुलिस ने धारा बढ़ाते हुए 376 कायम कर लिया। 

घटना के बाद से था फरार पुलिस के हाथ लगी बाइक

रिपोर्ट होने के बाद से बलात्कार का आरोपी फरार हो गया। पुलिस उसकी तलास करती रही। 30 जून को नईगढ़ी पुलिस आरोपी की तलास में रघुनाथगंज स्थित दुकान गई। वहां आरोपी नहीं मिला तो आरोपी पर दबाव बनाने पुलिस दुकान के सामने खड़ी उसकी बाइक उठा ले गई और उसे लौर थाना के रघुनाथगंज पुलिस चौकी में रख दी। 

पुलिस पर लगाया हत्या का आरोप

परिजनों का आरोप था कि 30 जून को पुलिस बाइक संग आरोपी को भी पकड़ ले गई। उसके पास दुकान के 50 हजार रुपये भी थे। दिलीप का कहना है कि वह जब थाना गया तो पुलिस ने 1 जुलाई को न्यायालय में आरोपी को पेश करने के लिए कहा। जब दूसरे दिन गया तो उसका भाई थाना में नहीं था और पुलिस वालों ने उसे मिलने भी नहीं दिया।बताया कि आरोपी भाग गया। परिजनों को आरोप था कि टीआई नईगढ़ी संग स्टॉप के पुलिस कर्मी उसके हत्या कर घटना को छुपाने कटनी के मुड़वारा रेलवे ट्रैक में लाश रख आये। वहीं दूसरी ओर मृतक के चचेरे भाई दिलीप गुप्ता पुत्र मोहन गुप्ता ने कटनी रेलवे पुलिस को अपने बयान में बताया कि 2 जुलाई की शाम प्रदीप का फोन आया और बताया कि वह कटनी में है। जब आने की बात पूछी तो कहा कि बतायेंगे। साथ ही अपने बयान में दिलीप ने कहा कि उसका भाई आत्मग्लानी में आत्महत्या कर ली। 

सुसाईड नोट में मिले मोबाइल नंबर से हुई थी शिनाख्त

मंगलवार को कटनी जिले के मुड़वारा रेलवे स्टेशन पास अज्ञात युवक का शव जीआरपी को मिला। जिसका सिर धड़ से अलग था। तलासी के दौरान जीआरपी को युवक के जेब में वोटर आईडी के साथ सुसाईड नोट मिला। सुसाईड नोट में युवक ने अपने घर के बहन सहित भाईयों के पांच मोबाइल नंबर लिखे थे। जिसमें संपर्क पर जीआरपी ने युवक की शिनाख्त रीवा जिले के नईगढ़ी थाना अंतर्गत ग्राम फुलहा निवासी प्रदीप कुमार गुप्ता पुत्र रामसांचे गुप्ता 25 वर्ष के रुप में की। साथ ही युवक का शव मिलने की सूचना परिजनों को दी। घटना की जानकारी लगते ही परिजन कटनी अस्पताल पहुंचे और शव को देखा तो सिर धड़ से अलग पाया। रेलवे पुलिस के सामने शव का पोस्टमार्टम करवा कर अपने साथ रीवा ले आये।

रंजिश भुनाने किशोरी को किया सामने: सुसाईड नोट

रेलवे पुलिस को मिले सुसाईड नोट में उल्लेख है कि पुरानी रंजिस भुनाने विरोधियों ने किशोरी को ढ़ाल बनाया। प्रदीप गुप्ता ने लिखा है गांव के विद्यानंद शर्मा, प्रद्युमन प्रसाद शर्मा, देवेश तिवारी, देवी लाल शर्मा, राजेश तिवारी पुत्र मोतीलाल से पुरानी रंजिस चल रही थी। रंजिस भुनाने के लिए रसूखदारों ने गांव की एक किशोरी को ढ़ाल बना कर मुझे फर्जी आरोप लगा कर फंसाया है। इसके कारण मैं अपनी मानहानि समझ कर आत्महत्या कर लिया हूं। 

जाते-जाते दे गया संदेश

महिला संबंधी अपराधों पर रोक लगाने कठोर नियम कानून बनाये गये हैं। ताकि महिलायें सुरक्षित रहें लेकिन उसी नियम कानून का लोग दुर्पयोग भी कर रहें। अपनी रंजिस भुनाने छोटे वर्ग की महिला या किशोरियों को ढ़ाल बना कर फर्जी छेड़छाड़ और दुष्कर्म का आरोप लगाने में कोई कोताई नहीं बरतते। ऐसे लोगों को सबक सिखाने के लिए जाते-जाते प्रदीप गुप्ता ने पुलिस के नाम संदेश छोड़ गया। प्रदीप ने विनती भरे शब्दो में लिखा है कि ऐसे लोगों पर कानूनी कार्रवाही की जाये। देखना यह है कि रीवा पुलिस प्रदीप के संदेश को कितना मानती है।
इनका कहना...
सोसाईड नोट की जांच की जायेगी। मृतक पर जो रेप का आरोप लगा है, उसकी भी जांच होगी। जो भी दोषी पाये जायेंगे उन पर कार्रवाही होनी निश्चित है। 
आबिद खान, एसपी रीवा

No comments