Breaking News

जरा सी बारिश, सड़क बन गई नाला

 रीवा। गुरुवार को आधे-आधे घंटे की हुई तेज बारिश में नगर निगम की पोल खुल गई। वहीं पुराने रीवा के घोघर के निवासी खासा परेशान हुये। हुआ यह कि नालियां भठी हुई सी थीं और पानी की निकासी नाली से होने की बजाय सड़क से होने लगा। इतना ही नहीं, तेज बारिश के चलते लगभग दो से ढाई फुट तक पानी सड़क में तेज बहाव के साथ बहा। कई जगह लोगों के घरों में भी पानी घुसा। इस आधे घंटे की बरसात ने जहां मौसम को बेहतर बनाया वहीं नगर निगम की लापरवाही के चलते कई लोगों की परेशानी का कारण भी बना। 
जरा सी बारिश, सड़क बन गई नाला

उल्लेखनीय है कि नगर पालिक निगम द्वारा जून माह की शुरूआत में ही सभी नालों की सफाई कराने के निर्देश दिये गये थे। नगर निगम के सफाई प्रभारी द्वारा यह जानकारी दी गई थी कि शहर के सभी छोटे-बड़े नालों की सफाई और मोहल्लों की नालियों की सफाई बेहतर तरीके से कर दी गई है। लेकिन असलियत की पोल पहली बार 12 जुलाई को खुल गई थी जब सामान्य बारिश में शहर के कई पास कालोनियों के घरों में पानी घुस गया था। आज गुरुवार को पोल तब खुल गई जब घोघर मोहल्ले की पतली गलियों ने नाले का रूप ले लिया और सड़क में दो से ढाई फिट पानी तेज बहाव के साथ बहने लगा। 
लगभग तीस मिनट तक हुई बरसात के बाद केवल घोघर मोहल्ले की यह स्थिति नहीं थी। नेहरू नगर ज्योति स्कूल के पीछे, उर्रहट में पीके स्कूल के पीछे, रानीतालाब बस्ती क्षेत्र में कई जगह सड़कों में नालियों के पानी का बहाव तेजी के साथ होता रहा। वहीं दूसरी ओर कई जगह यह गंदा पानी लोगों के घरों में घुस गया। जिससे लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ा। वहीं लोग-बाग नगर निगम अमले को कोसते सुनाई दिये। खास बात यह है कि हर साल बारिश के महीने में कई मोहल्लों के लोगों को परेशानी का सामना करना पड़ता है। नगर पालिक निगम रीवा द्वारा ऐसे इलाकों को चिन्हित भी किया जाता है लेकिन मौसम सामान्य होते ही पूूरा घटनाक्रम नगर निगम भूल जाता है। वहीं निगर निगम का सफाई अमला तो पूरी तरह से स्वेच्छाचारिता वाला है। अधिकारी दबाव बना नहीं सकते। इससे यह स्थिति और गंभीर होती जा रही है। फिलहाल अभी तक तो मूसलाधार बारिश का दौर ही नहीं शुरू हुआ है। जब यह स्थिति बनेगी तो नगर के लोगों का हाल क्या होगा स्वयं समझा जा सकता है। 

No comments