Breaking News

बादल और घने कोहरे से ढका रहा जिला, दिन में भी लाइट जलाकर दौड़ाते रहे वाहन

रीवा। मौसम का मिजाज गुरूवार को बिगड़ गया और सुबह के समय घना कोहरा होने के साथ ही दिनभर बादलों के चलते जिला कोहरा और बादल से ढका रहा। तो वहीं चल रही सर्द हवाओं से दिन में भी लोग ठिठुरते रहे। ठण्ड से बचने के लिए न सिर्फ गर्म कपड़ों का उपयोग किए बल्कि अलाव के पास बैठकर ज्यादातर लोग आग तापते रहे। चालू शीत के मौसम में यह पहला अवसर रहा जब मौसम का मिजाज इतना ज्यादा बिगड़ा है। उत्तर भारत समेत विंध्य क्षेत्र और रीवा जिला का मौसम बिगड़ा हुआ है। कोहरा और सर्द हवाओं के चलते तापमान पर भ्ाी असर देखा जा रहा है। गुरूवार को जिले का न्यूनतम तापमान 5.3 डिग्री रिकार्ड किया गया है। मौसम विश्ोषज्ञों का कहना है कि बादल छटने के बाद अभी ठण्ड का असर और पड़ेगा। तो वहीं आगामी 24 घंटे तक जिले में बादल रहने के साथ ही बारिश के भी आसार हैं। 
यातायात सेवा पर पड़ा प्रभाव
बिगड़े मौसम के चलते इसका असर यातायात सेवाओं पर सबसे ज्यादा देखा गया। सुबह के समय वाहन सवार लोग अपने वाहनों की लाइट जलाकर वाहन चलाते रहे तो वहीं रेल सेवाओं पर भी इसका असर रहा। निर्धारित समय पर रीवा पहुंचने वाली रेवांचल ट्रेन गुरूवार को सुबह 9 बजे रीवा स्टेशन पहुंची जबकि उसके पहुंचने का समय 8.20 निर्धारित है। तो वहीं दिल्ली आनंद बिहार ट्रेन दोपहर 2 बजे रीवा पहुंची। कुछ इसी तरह की स्थिति सुबह के समय आने वाली बिलासपुर चिरमिरी ट्रेनों की भी रही है। जो निर्धारित समय से लेट यात्री लेकर रीवा पहुंची।
kohra
खरीदी केन्द्रो में भींगी धान
 खुले आसमान के नीचे रखी हुई खरीदी केन्द्रों में धान व अन्य अनाज पर मौसम की मार पड़ रही है। त्योंथर और हनुमना में धान को पानी से ज्यादा नुकसान पहुंचा है। जिले में 25 जनवरी तक धान की खरीदी की जानी है। जिसके चलते खरीदी केन्द्रों में खुले आसमान के नीचे खरीदी गई धान आदि रखी हुई है। हालांकि पूर्व में प्रशासन द्वारा निर्देश दिए गए थे कि मौसम को देखते हुए अनाज को सुरक्षित किया जाए, लेकिन जिम्मेदारों द्वारा इस आदेश पर भी पूरी तरह से अमल नहीं किया गया। जिसके चलते मौसम बिगड़ने पर एक बार फिर मौसम की मार खरीदी केन्द्रों में रखी हुई अनाज पर पड़ रही है।

No comments