Breaking News

मंदिरों में पूजा-अर्चना कर वर्ष 2019 का लोगों ने किया स्वागत, हुए सांस्कृतिक कार्यक्रम

रीवा। नए वर्ष पर सुबह से ही लोग स्नान के बाद पूजा-अर्चना करने के लिए मंदिरों मंे पहुंचने लगे और भगवान की विशेष पूजा-अर्चना कर यह वर्ष मंगलकारी हो, सुख शांति और समृद्धि लाये कुछ इस तरह की कामना किये। मंगलवार का दिन नव वर्ष का प्रथम दिन होने के कारण चिरूहुला मंदिर में भक्त लम्बी कतार में खड़े रहें और मंदिर मे पहुंचकर संकटमोचन हनुमान का प्रिय फूल, पूजन सामग्री के साथ मंदिर में पूजा-अर्चना करते देखे गये। इसी तरह कोठी कम्पाउंड के मनकामेश्वर देवालय, सिर्डी संाई मंदिर, देवतालाब के शिव मंदिर, बिरसिंगपुर शिव मंदिर, बसामन मामा मंदिर तो वहीं शहर के महामृत्युजय भगवान, रानी तालाब की कालिका मंदिर, समान की फूलमती माता मंदिर में भक्तों की सबसे ज्यादा भीड़ रही है।

2019 के स्वागत में झूमते रहे लोग
अलविदा 2018 को विदाई देने और 2019 का स्वागत करने के लिए शहर में जगह-जगह कार्यक्रम आयोजित किये गये थे। जहां डीजे की धुन पर लोग नाचते गाते उत्सव के रूप में मना रहे थे और जैसे ही रात 12 बजे लोगों ने 2019 की आवाज लगाते हुए एक दूसरे को नये वषर््ा की शुभकामना दिये हैं रात से ही लोगों के फोन की घंटी बजने लगी। वही यह क्रम सुबह होने तक जारी रहा जिससे नेटवर्क व्यस्त होने की समस्या से भी लोगों को दो चार होना पड़ा।
दिख्ाी विंध्य की संस्कृति
टीआरएस कालेज के खेल मैदान में शांति दौड़ के अवसर पर सांस्कृतिक कार्यक्रम का भी आयोजन किया गया। इसमें विंध्य की संस्कृति पर आधारित कार्यक्रम की प्रस्तुति देते हुए लोगों को स्वच्छता सहित सामाजिक बुराईयों के प्रति जागरूक भी किए। कार्यक्रम में लिल्ली घोड़ी का नृत्य, लोकगीत, अहिरहाई नृत्य तथा स्वच्छ भारत स्वस्थ्य भारत तथा स्वच्छ रीवा स्वस्थ्य रीवा पर आधारित नाटक एवं अन्य कार्यक्रमों की प्रस्तुति देकर कलाकारों ने मौजूद लोगों का दिल न सिर्फ जीत लिया बल्कि कार्यक्रम को एक नए अंदाज में प्रस्तुत किए।