Sunday, June 26, 2022

hindinews11

HomeUncategorizedकोष्टा कचरा संयंत्र में लगी भीषण आग, जहरीले धुएं ने लोगों को...

कोष्टा कचरा संयंत्र में लगी भीषण आग, जहरीले धुएं ने लोगों को किया बेचैन

रीवा। नगर निगम क्षेत्र के कोष्टा अंतर्गत स्थापित कचरा संयंत्र में दोपहर बाद लगी आग ने आसपास के इलाके में रहने वाले लोगों में सनसनी फैला दी। आग की लपटे इतनी तेज थी कि पूरे इलाके में उसके तपन ने लोगों को परेशान कर दिया। इसके बाद निचले स्तर पर पहुंची आग के जहरीले धुएं ने पूरे इलाके को अपने आगोश में ले लिया। लोग परेशान थे और बार-बार नगर निगम प्रशासन के साथ जिले के बड़े अधिकारियों को फोन कर रहे थे। लेकिन घंटों तक किसी ने ध्यान नहीं दिया। बाद में देर शाम फायर बिग्रेड पहुंचा और बड़ी मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया। लेकिन उसके बाद भी धुंआ निकल रहा था। शायद अंदर की आग खबर लिखे जाने तक नहीं बुझ पाई थी। 
रीवा शहर का तापमान जहां 44-45 डिग्री सेल्सियस के बीच लोगों को झुलसा रहा था वहीं कोष्टा में दोपहर 2 बजे के आसपास लोगों ने पहले तेज धुंआ देखा। लोगों ने सोचा कि अपने आप ही यह ठीक हो जाएगा। लेकिन देखते ही देखते आग की लपटों के बीच पूरा कचरा क्षेत्र  जब लोगों ने देखा तो उनके होश उड़े। लगभग दो किलोमीटर एरिया में स्थापित इस कचरा प्लांट में रीवा शहर का पूरा कचरा इक_ा होता है और उसे कचरा संयंत्र प्लांट में डालकर नष्ट किया जाता है। लेकिन आज दोपहर  जब आग लगी और लपटें फैलने लगी तो आसपास रहने वाले लोगों के होश घाबड़ होने लगे। लोगों ने नगर निगम के अधिकारियों एवं जिले के अधिकारियों को फोन लगाना शुरू किया। लगभग 3 घंटे तक कचरे के चारों ओर लपट फैलती रही और उसका धुंआ चारों ओर वायुमण्डल में जाता रहा। कोष्टा स्थित कचरा संयंत्र का जहरीला धुंआ लगभग 5 किलोमीटर एरिया में फैला हुआ बताया गया है। आसपास के ग्रामीणों ने भी इस धुएं को एहसास किया वहीं कोष्टा से लगे शहरी सीमा में तो इसका प्रभाव व्यापक रहा। अलबत्ता लगभग 5 बजे नगर निगम प्रशासन की फायर बिग्रेड मशीन और कर्मचारी पहुंचे तब जाकर आग पर काबू पाया जा सका। बताया गया है कि इस पर भी कर्मचारियों को लगभग दो से तीन घंटे लग गए। उक्त संबंध में स्थानीय लोगों ने बताया कि जहरीला धुंआ अभी भी निकल रहा है। शायद नीचे की आग नहीं बुझ पाई है। लोगों ने कहा कि कोष्टा में कचरा संयंत्र प्लांट स्थापित किया जाना ही मूलत: गलत है। क्योंकि यह शहर से लगा हुआ है तथा कोष्टा कचरा संयंत्र प्लांट के चारों ओर रहवासी बस्तियां हैं। उधर पर्यावरण विदों का मानना है कि इस जहरीले धुएं से कई प्रकार की गंभीर बीमारियां होने की आशंका बढ़ जाती है। साथ ही अगर यह जहरीला धुंआ शरीर के अंदर प्रविष्ट हुआ तो दमे एवं श्वास संबंधी बीमारी होने से कोई नहीं रोक सकता। अलबत्ता खबर लिखे जाने तक एक बार फिर नगर निगम की टीम उक्त स्थल का मुआयना करने पहुंच चुकी है। साथ ही फायर बिग्रेड ने पुन: एक बार कचरा संयंत्र को पूरी तरह से ठण्डा करने में जुटा हुआ है। 
RELATED ARTICLES

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here

- Advertisment -

Most Popular